ए ज़िन्दगी जरा ये तो बता क्यो है तू मुझसे ख़फ़ा

ए ज़िन्दगी जरा ये तो बता क्यो है तू मुझसे ख़फ़ा

वीरान चमन में कहाँ कहाँ ढूंढू मैं वफ़ा

दफन हो जाऊं अपनी अधूरी ख्वाहिशों को लेकर

या इस दार ए फानी से मैं हो जाऊं दफा

ए ज़िन्दगी जरा ये तो बता क्यो है तू मुझसे खफ़ा ।।

अब तो बोझिल सा रहने लगा हूँ

जुल्म तन्हाई के रूह पर सहने लगा हूँ

सितम बढ़ता ही जा रहा है मुझपर गमो का

अब तो ना चाहते हुए भी मैं रोने लगा हूँ

दवा अब सब बेअसर है मिलती नही है कोई भी शिफा

ए ज़िन्दगी जरा ये तो बता क्यो है तू मुझसे से ख़फ़ा ।।

चाहते मेरी ,आरजुएं मेरी आज क्यो खाक होने को है

जो थे मेरे कभी वो आज गैर के होने को है

दिखती नहीं उनको मेरी मोहब्बत रूहानी

मेरा ज़िस्म मेरी जिंदगानी आज सब फ़ौत होने को है

पढ़ पढ़कर नमाज़े उसके इश्क़ की

मेरी रूह आज मौत का कर रही है दिफ़ा

ए ज़िन्दगी जरा ये तो बता क्यो है तू मुझसे ख़फ़ा ।।

️Imran Ilahi

 

#Imran Ilahi

Best Content by Imran Ilahi which is published in his Book

मेरे बिखरे हुए जज्बात, do check this book on

http://writersvillapublication.com/search?searchtext=the%20affirm

https://www.facebook.com/commerce/products/3453826551355092/

 

 

 

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Website Built with WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: